प्रभु की प्रार्थना

You are currently viewing प्रभु की प्रार्थना

प्रभु की प्रार्थना

© Copyright, all right reserved.

हो के करबद्ध विनती प्रभु आपकी,

सिर झुकता हूँ मैं, हूँ शरण आपकी।

रूह है आपकी , जिंदगी आपकी।

सब है तेरा प्रभु, हूँ शरण आपकी।

कृपा करना प्रभु, मैं बनूँ मुस्तफा

सबसे खुश मैं रहूँ, न रहूँ मैं खफ़ा

साथ रहना प्रभु, काम कुछ भी करूँ

सबकी सेवा करूँ, ध्यान तेरा धरूँ।

सबकी सेवा करूँ, ध्यान तेरा धरूँ।

हो के करबद्ध विनती प्रभु आपकी,

सिर झुकता हूँ मैं, हूँ शरण आपकी।

रूह है आपकी , जिंदगी आपकी।

सब है तेरा प्रभु, हूँ शरण आपकी।

दीन निर्बल मिलें, भूले भटके मिलें

उनकी सेवा करूँ बिना शिकवे गिले।

पाप मैं न करूँ, दंभ मैं न करूँ

झूठ मैं न कहूँ, बुरा मैं न सुनूँ

न अन्यायी बनूँ, न विवश मैं रहूँ।

इस तरह से सदा, प्रभु में श्रद्धा रखूँ।

प्रभु की सेवा करूँ प्रभु की पूजा करूँ

प्रभु की सेवा करूँ प्रभु की पूजा करूँ

हो के करबद्ध विनती प्रभु आपकी,

सिर झुकता हूँ मैं, हूँ शरण आपकी।

रूह है आपकी , जिंदगी आपकी

सब है तेरा प्रभु, हूँ शरण आपकी।

दिनेश कुमार भूषण

Home Page

Learn English Online

English Study Point

Share This Post: