UP बेसिक शिक्षा विभाग शीतकालीन अवकाश

You are currently viewing UP बेसिक शिक्षा विभाग शीतकालीन अवकाश

क्या उत्तर प्रदेश परिषदीय विद्यालयों में शीतकालीन अवकाश होगा?

उत्तर प्रदेश सरकार ने पहली बार बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के लिए शीतकालीन अवकाश लागू करने जा रही है। हालांकि इस अवकाश की शुरूआत पिछले साल ही होनी थी, लेकिन लागू नही किया गया था।

ऐसे में हमारे शिक्षक साथी भ्रम की स्थिति में हैं, कि क्या इसबार शीतकालीन अवकाश होगा? तो साथियों जानकारी के लिए आपको बता दूँ कि इसबार शीतकालीन अवकाश होगा। बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव श्री प्रताप सिंह बघेल ने सोमवार को अवकाश कार्यक्रम घोंषित किए हैं। कार्यक्रम के अनुसार विद्यालयों का संचालन, शीतकालीन और ग्रीष्मकालीन अलग-अलग कार्यक्रम के अनुसार होगा।

ग्रीष्म-काल (1 अप्रैल से 30 सितम्बर तक) में विद्यालय सुबह 8 बजे से दोपहर बाद 2 बजे तक संचालित होंगे।

शीत-काल (1 अक्टूबर से 31 मार्च) में विद्यालय सुबह 9 बजे से दोपहर बाद 3 बजे तक संचालित होंगे।

नये कार्यक्रम में ग्रीष्मकालीन अवकाश जो कि 41 दिनों का हुआ करता था अब 2 भागों में बांट दिया गया है। अब ग्रीष्मकालीन अवकाश सिर्फ 26 दिनों का होगा। जोकि 20 मई से 15 जून तक रहेगा। ग्रीष्मकालीन के बचे हुए 15 दिन का अवकाश जो 16 जून से 30 जून तक का है, को अब शीतकालीन अवकाश में बदल दिया गया है। अब 15 दिन का अवकाश 1 जनवरी से 15 जनवरी तक रहेगा।

इसतरह अवकाश अब 2 हिस्सों में मिलेगा।

बच्चों के लिए गतिविधि/कविताएं 👇

मेढक की शादी
मेढक की शादी

मेढक की शादी
उमड़ घुमड़ के बादल बरसे,
बिजली चमके मेघा गरजे।
झम झमाझम पानी बरसे,
मेढक निकले अपने घर से।

‘गीदड़ की शादी’ बच्चों की कविता
‘गीदड़ की शादी’ बच्चों की कविता

‘गीदड़ की शादी’ बच्चों के लिए कविता
उमड़े बादल, घुमड़े बादल,
तेज हवा संग, उमड़े बादल।
कभी इधर को, कभी उधर को,
मनमस्ती में घुमड़े बादल।

‘कौन कैसा’ बच्चों के लिए कविता
‘कौन कैसा’ बच्चों के लिए कविता

कौन कैसा, बाल-कविता © Copyright.
पतला कौन है, कौन है मोटा,
बड़ा कौन है, कौन है छोटा,
लम्बा कौन, कौन है नाटा।

‘बच्चों की मौज’ बाल-कविता
‘बच्चों की मौज’ बाल-कविता

‘बच्चों की मौज’ बाल-गीत, बच्चों के लिए गतिविधि।
जस्सी आया रस्सी लाया,
जावेद आया गेंद लाया,
सारा आई गुब्बारा लाई,
अमन आया चमन भी आया

‘मोटा मोटा हाथी’ बाल-गीत
‘मोटा मोटा हाथी’ बाल-गीत

मोटा मोटा हाथी
मोटा मोटा हाथी, हाथी मेरा साथी,
पैर है मोटे आंखें छोटी, बड़े कान हैं चमड़ी मोटी,
सूंड है लम्बी आंखे छोटी,

previous arrowprevious arrow
next arrownext arrow
मेढक की शादी
‘गीदड़ की शादी’ बच्चों की कविता
‘कौन कैसा’ बच्चों के लिए कविता
‘बच्चों की मौज’ बाल-कविता
‘मोटा मोटा हाथी’ बाल-गीत
previous arrow
next arrow
Shadow

बच्चों के लिए फ्लैश कार्ड से अक्षर ज्ञान और पहचान

Home Page

Learn English Online

English Study Point

Share This Post: